अपंग जमनादेवी के द्वार पहुँची सहायता के लिये उपकार टीम
“उपकार संस्थान ट्रस्ट ने उठाया मासिक मदद का बीड़ाUpkar sansthan Trust work
गुरुद्वारा के पीछे स्थित कच्ची बस्ती, पोकरण जिला जैसलमेर की रहने वाली जमनादेवी शारिरिक रूप से विकलांग है।आज से करीब 12 साल पहले पति की मौत के साथ ही वैशाखी का सहारा भी चल बसा।इसके बाद जिंदगी काटना दुखदायी था। जैसे तैसे हिम्मत जुटाकर मजदूरी करके अपने 4-,4 बच्चों को पालने लगी। दो बड़ी बच्चियां बालिंग होने पर समाज ने मदद करके विवाह कराया। फिर भी जीवन का एक एक दिन फोड़े की तरह गुजरा लेकिन अब जिंदगी विकट मोड़ पर आके खड़ी हो गई है। विकलांग जमना को सुनाई देना भी कम हो गया है। 12-12 वर्ष के बेटा-बेटी का पेट भरना मुश्किल हो चुका है। बच्चे पढ़ाई करने की उम्र में बाल मजदूरी करने को मोहताज हो चुके हैं। सुबह शाम का चूल्हा भी जलाना दूभर हो गया है।ऐसे बेबस,बेसहारा और बीमार जमना की जानकारी ट्रस्ट को मिली। संस्थान के सचिव श्री कुमेर प्रसाद गौड़ मदद हेतु राशन का किट लेकर पहुँचे। जिसमें आटा, तेल,दाल,नमक, मिर्च मसाले आदि थे।साथ ही विश्वास दिलाया कि हर माह राशन देंगे और बच्चों को पढ़ाने लिखाने में हर संभव मदद करेंगे।
उपकार संस्थान ट्रस्ट ऐसे कई दुःखी परिवारों की मदद करता है।आप सबसे अपील ऐसे परोपकारी प्रकल्प में कृपया मदद करें।
लॉगिन www.upkarsansthantrust.org